आओ मिल बैठे

बहुत दिन हुऐ दिलो के हाल कहे
आ जाये के कुछ कहना है
तुमहे गले लगा के ए मेरे सनम
खुद को तुम मे खोना है
करने है सैकड़ों शिकवे गिले
ये जिद है कि आज मुझे तो तेरी होना है
🌷🌷🌷

आओ कुछ कहना है तुमहे
आखों मे काजल सा बसाना है तुमहे
फिर ना कहना कुछ खो गया है
तेरा दिल सीने मे अपने छुपाना है मुझे
🌷🌷🌷

बहुत दिन हुए नजर से नजर मिले
आओ थोडा मिल बैठे, हाले दिल सुना ले
कुछ तुम अपने दिनो की कहानी कहो
कुछ हम अपना रातो का फसाना कहे
कुछ पयार के नगमे कुछ मोहबत के तराने
कुछ शिकवे शिकायत कुछ रुठना मनाना
बहुत हुई दुरियां अब चलो “आऔ अब मिल बैठै”
🌷🌷🌷
आऔ मिल बैठे कुछ खुशिया कुछ गम बाटे
कुछ आंखों से आसुं पोछ आए
कुछ आँखों को खुशी के आसुं दे आए
कुछ रोते दिलो को हसॉ आए
कुछ उदास चेहरो को मुसकान दे आए,
कुछ बिछडो को मिला आए
कुछ रूठो को मना आए
बस इतनी ही तमन्ना है इस दिल की
ये ROOH किसी के तो काम आए
🌷🌷🌷
अभी किसी ने मुठी भर गम के बदले खुशियां मागीं है
आओ मेरे अपनो इसे हम बाटं ले
कहते है ना गम बाटने से कम होते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *