Tum meri Khushi thei

पलको मे अशको को रोका है होठो तक लफजो को आने ना दिया, तेरी बेवफाई का हुआ ये असर किसी खुशी को अपने दिल का पता ना दिया

Tumse Durr hokar ji na payege

सांसें    मेरी  चलते  चलते  जो  थम  जाए  तो समझ  लेना  उनकी  बेवफाई  का  घाव  गहरा  था, जनाजे को मेरे जब सजायो तो समझ लेना उनके माथे  पर  किसी  गैर  के  नाम  का  सहरा था

Yeh kaisa sitam

हमने उनकी राहो मे फुल बिछा रखे है, और कांटे अपने दामन मे समेट रखे है, इसपर भी उनका सितम देखिए ,पावँ अपने मखमल के जुतो मे छुपा रखे है

Thoda sa intzar baki hai

तुझे कया कहु ऐसा कि तुम थोडा पिघल जायो,   मैने तुमसे पयार बहुत किया थोडा तुम भी कर लो, बहुत  एतबार  किया  थोडा  तुम  भी  कर  लो,     शायद पयार हो ही जाए थोडा इतजार तुम भी कर लो