Yeh ishq kya hai

सबने कहा इशक नही करना दर्द मिलता है, पर किसी ने ये नही कहा ये मीठा जहर नासुर भी बनता है

Thoda sa intzar baki hai

तुझे कया कहु ऐसा कि तुम थोडा पिघल जायो,   मैने तुमसे पयार बहुत किया थोडा तुम भी कर लो, बहुत  एतबार  किया  थोडा  तुम  भी  कर  लो,     शायद पयार हो ही जाए थोडा इतजार तुम भी कर लो

Is pyar Ko kya Naam de

तूमहारी मौहबत मे गिरफ्तार हु ये मै नही जमाना कहता है,

हमारे इशक की दासतान ये जमीन आसमान सुनाता है,

तेरे शबदो को यु सजाया है जिसमे वो सब ये तराना कहता है,

अब और कया कहु आजकल हर कोई हमे इक दुजे का दीवाना कहता है

Hum juda ho gye

हम तो कुछ थे ही नही तुम्हारी जिदंगी मे,  तो कमी कैसे पायोगे, साथ तो सब चलेंगे आपके, पर अपने इतंजार मे राहो मे बेचैन खडा हमें अब ना पायोगे

 

Woh din kha gye

जब कोई नजर चुराने लगे , कम  कम बाते करने लगे तो ये ना समझना की पयार नही, पर बस ये जरूर देख लेना कि उसका दिल अब आपके पास नही

Khoon-e-jigar

खुन का रंग तो कल भी लाल था आज भी लाल है, पर इसमे दर्द, तेरी बेवफाई का रंग कैसे पहचाने

पलको मे अशको का समुंदर भर के, ये रूह तेरे दर पे आई है फरियाद लेके, इक बार महसुस कर इसे भी, फिर मिले ना मिले हम बिछड के

Kyu hai tujhse itni mohabat

कयु तेरी मोहबत फरेब सी लगती है, कयु तुझपर यकीन नही, रोज रासते अलग चुनती हु,पर तेरा खयाल आते ही खुद को तेरी चौखट पर खडा पाती हु

Ek bar to aao

तेरी याद मे इक पल सोए नहीं, पलकों मे तेरी तसवीर लिए बैठे रहे,कभी तो हो तुझे भी हमसे मौहबत ,बस यही दुआ हम मांंगते रहे

Shayari

Translate »