ROOH ko ROOH mein kho jane do

आज भी जब तेरा खयाल आया तेरा वही रूमाल मेरे काम आया खुशबु बसी है आज भी उसमे तेरी वही तो है इस रूह का राजदार तेरे हाथो की छुअन का अहसास हैं इसमे इस रूह का सकुन बनके ये फरिशता तेरे होने का पैगाम लाया 🌷🌷🌷 रुह को रुह मे खो जाने दो अपनी … Continue reading ROOH ko ROOH mein kho jane do

तुझे ढुंढा मैने हर गली कुचे मे
पर तुम मिले रात की तनहाई मे
हर सांस मे तुझे याद किया
और तुम छुपे इस रुह की गहराई मे
🌷🌷🌷

आखौं मे आखें बाहों मे बाहें
रुह को रूह मे खो जानें दो
चलो आ भी जायो सनम अब बहुत हुआ
ना तडपायो इतना कहीं मर ही ना जाऊ
बस अब तो अपना हो जाने दो
🌹🌹🌹
आज मौसम भी बेईमान है
तुमहारी तरह ही मचल रहा
आज रुह को रुह मे खो जानें दो
पुरे करने है अरमान सारे
बस आज की रात हमे होश नहीं
बस तुम हम हमतुम और कुछ नही
हमे खुद को भुल जाने दो
🌷🌷🌷
आज भी जब तेरा खयाल आया
तेरा वही रूमाल मेरे काम आया
खुशबु बसी है आज भी उसमे तेरी
वही तो है इस रूह का राजदार
तेरे हाथो की छुअन का अहसास हैं इसमे
इस रूह का सकुन बनके ये फरिशता तेरे होने का पैगाम लाया
🌷🌷🌷

रुह को रुह मे खो जाने दो
अपनी आखों के मयखाने मे डुब जाने दो
होश मे आना कौन चाहता है
बस अब तो बहक जाने दो
🌷🌷🌷

आओ के होश गुम है ,
तुमहे पाने को दिल बेचैन है,
ये रूह तडपती हैं तेरी रूह मे खो जाने को ,
ना तरसा इसे ऐ जालिम
कहते है भटकती रूहे कभी पीछा नही छोडती
🌷🌷🌷
ये रूह  तुझमे खोना चाहती हैं तेरी होना चाहती है
भर ले आगोश मे कि पिधलना चाहती हैं
जब जब समेटते हो मुझे बस उसी एक पल मे रहना चाहती हुँ

🌷🌷🌷

छू के देख हकीकत हूँ कोई खवाब नही
जो तेरी जिदगीं महका दे वो गुलशन हु
कोई कागज के फुल नहीं
अपना तुझे बनाना है और तुझमे खो जाना है
रूह का मिलन हैं ये जिसमो का नही
सात जनम निभाना है एक रात की बात नही
🌷🌷🌷

मुसकुरा के देख तेरी ही Rooh हु
कल रात खवाब मे थी आज रुबरू हुँ
🌷🌷🌷
दिल से निकली हर आह का हिसाब मागुगीं
ये रुह तेरी है
इस जनम का ही नहीं
उस रब से सातो जनम तेरा साथ मागुगीं
🌷🌷🌷
मेरे सनमकी आशिकी तो देखिये
बहाना पानी बचाने का हैं
और चाहत हमारी जुलफो से टपकती बुदों की
🌷🌷🌷

हुसन की बारिश मे भिगो ले खुद को
कभी कभी बरसती हैं तृपतृ कर ले खुद को
नसीब से मिलता है ये मौका
आज बाहों मे भरकर पुरा करदे मुझको
🌷🌷🌷🌷

मेरे सनम की बाहोँ मे महफुज रहतीं हुँ
वहीं तो हैं जो हमको हमसे चुरा लेते हैं
🌷🌷🌷🌷
इक  खवाब सा देखा हैं हमने
तेरे साथ दुनिया बसा ले
और उसे जनंत का नाम दे दे
🌷🌷🌷🌷

तुम भी झूठे तुम्हारे वादे भी झुठे
रात भर साथ रहने का वादा खुब निभाया
पर हकीकत कहा था खवाब मे नही
और उसपर लिपस्टिक कयु नहीं लगाई ताना भी हमी को
🌷🌷🌷🌷

इश्क के दरिया मे उतर के देखिये
धसते चले जाएगे
एक दिन ऐसा आएगा ना दिल साथ देगा ना दिमाग
रह दुर इस बिमारी से कहे देते हैं वरना जान से जाओगे
🌷🌷🌷🌷

तुम कल रात सपने मे आए ये जमाने को खबर हो गई
बिसतर की सलवटों ने सब राज खोल दिए के मैं तेरी हो गई
🌷🌷🌷🌷

वो चाहते है युहीं सामने बैठे रहे
पर कया करे जनाब दिल मानता ही नहीं
बार बार उनके गले लगने की जिद करता हैं
🌷🌷🌷🌷

रात भर ये चाँद मेरे साथ जगा हैं
मै तेरे इतजांर मे और ये मेरे महबुब की इक झलक की खातिर
मौसम हसीन नही ये इस चाँद की ठंडक हैं
जो तेरे दीदार की खातिर अबतक  बादलो मे छुपा नहीं
🌷🌷🌷🌷

लो जी आईं हु फिर तेरे पयार का जामा पहन कर
अब मुझे सवाँर दे अपने इन होठोँ की मुहर लगा कर
🌷🌷🌷🌷

आज सामने देखा तुझे तो सासें जैसे थम सी गई
छु भी ले सनम कहीं मर ही ना जाए
🌷🌷🌷🌷

तुझे देख के ये दिल घडकता हैं
सासें तेरा नाम लेती हैं
मेरा तो अब कुछ बचा नही
ले ये Rooh भी तेरे नाम करती हुँ
🌷🌷🌷🌷
तेरे दिल मे रहना है इक याद बनके
तेरी रातो को सजाना है ख्वाब बनके
तेरी हु मेरे सनम मेरी जिदंगी को मायने दे दे
मेरी मजिलं बनके
🌷🌷🌷🌷
अगर तुम सुरज हो तो मैं सुरजमुखी
तुम चाँद तो मै चाँदनी की ठंडक
तुम से ही वजूद मेरा तुम ही पहचान हो
तुम इस दिल की घडकन तुम ही इस ROOH का अरमान हो
🌷🌷🌷🌷
ना जाने तुम मे कया कशिश हैं
खिचीं चली आती हु
इन नजरों की भाशा को समझ मेरे पृतम

ये ROOH तेरी होना चाहती हैं
🌷🌷🌷🌷
तेरे पहँलु मे जो घडकता है वो दिल मेरा है
तेरे कदमों के निशां पर जो चलता है वो साया मेरा हैं
मेरी हर सांस के साथ जो सुनाई दे वो नाम मेरी जान तेरा हैं
🌷🌷🌷🌷
दुनिया वालों शिकायत ना करना अधेंरो की
मेरा चाँद आज मुझसे मिलने आया है

3 thoughts on “ROOH ko ROOH mein kho jane do”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *