Yeh teri meri kahani

लफजों से जो बयां ना हो ये तेरी मेरी कहानी
दिलो मे मौहबत हो तो महसुस करो
सासों मे गर्मी भर दे
मंद पडी घडकनो को जीना सिखा दे
ये तेरी मेरी कहानी, हाँ यहीं तेरी मेरी कहानी
🌷🌷🌷
तेरे इशक ने मशहूर कर दिया
तेरे नाम से बुलाते है अब मुझे
जहां से भी गुजरो आखौं मे मुसकराते है सब
यु लगता है जैसे सिर्फ एक ही चरचा है शहर मे
दबी जबान से गुनगुना रहे सब ये तेरी मेरी कहानी
🌷🌷🌷

कल रात फिर वही सब दोहरा गई हवाए
तुम तो नही आए तुमहारी याद दिला गई हवाए
बहुत कोशिश की समेटने की इन जुलफो को
पर तुमहारी ही तरह इनहे बिखरा गई ये हवाएँ
हमने तो बहुत छुपाई ये तेरी मेरी कहानी
पर सब राज खोल गई ये हवाएँ
🌷🌷🌷

वो तेरा गीला तौलिया उठाने के बहाने मेरे आगंन आना
वो मेरा तुझे देख के मुसकुराना,
वो गली से गुजरते वकत तूझे देख मेरा सिर झुका लेना
जबान से कुछ ना कहकर नजरो से सब कह देना,
ना जाने कब पयार हुआ,ना जाने कब दुनिया ने रच ली एक और कहानी,
ये तेरी मेरी कहानी, ये तेरी मेरी कहानी
🌷🌷🌷

तुम मुझमे यु समाए हो जैसे रगो मे लहु
मेरे वजुद पर यु छाए हो जैसे धरती पर आसमॉ
ये जहाँ समझे ना समझे दिलो की दॉसता तो कया
उस रब की लिखी है ये तेरी मेरी कहानी
🌷🌷🌷
बारिश की बुदं सी हु मै और तुम सागार मेरे
बाहें फैलाए आवाज देते हो और मै समा जाती हु तुममे
अपना वजुद मिटा दिया तेरी चाहत मे
अब तो युही रहना है तेरी बाहों मे
जानती हु तुझमे मिलकर हो जाउगी मै भी खारा पानी
पर फिर भी याद करेगी दुनिया
ये तेरी मेरी कहानी,ये तेरी मेरी कहानी
🌷🌷🌷

आज फिर एक नयी कहानी है सुनाने को,
जब उनहोने पुकारा हमको ,
हम खवाब मे ही दौड पडे,
लेकिन उनकी शरारत तो देखिए
कहते है हमने भी तो पुकारा खवाब मे

🌷🌷🌷
ये तेरी मेरी कहानी,
ऐक ताजा हवा का झोंका है,
जो रूहो को महकाता हैं जिसमो को गुदगुदाता है
ये हमारी कहानी कभी हसॉती है कभी दिल के तार छेड जाती है
कभी ना खतम होने वाली ये दासतॉ हैं
प्रेमी सुनते सुनाते रहेगे हमेशा गुनगुनाते रहेगे
ये तेरी मेरी कहानी,
ये तेरी मेरी कहानी
🌷🌷🌷
वो तेरा पयार से मुझे छेडना वो मेरे बालो से खेलना
वो रह रह कर मेरा नाम पुकारना
आज भी याद करती हु तो आइना मुसकुराने की वजह पुछता है
🌷🌷🌷

आ जायो के गरम हवाएँ जलाने लगी है
बरसात की बुदों से बरस जायो
आज वो पुरानी कहानी दोहराते है
मै जमीन और तुम मेरे आसमां बन जायो फिरसे
🌷🌷🌷
याद है वो दिन जब पयार है मुझसे कहा था
बस वहीं पल जिया है अबतक
तेरी आवाज आज भी कानों मे सगींत सी बजती है
तेरी आखौ की शरारत मेरे चेहरें की रंगत बदलती है
जो कहा वो पयार था या जो महसूस करती हु वो पयार है
🌷🌷🌷

ये तेरी मेरी कहानी है सदियों पुरानी
बस नाम बदलते है चेहरे बदलते है
हमारा भी फसाना लिखा जाएगा
हमारी मोहबत की भी कसमे आशिक खाएंगे
कयुकि कहते है.ना मोहबत सचची वही जिसको मिलती नहीं मजिले
🌷🌷🌷

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *